На главную
Видео добавленное пользователем “ghazipur funter”
किसान भाई पैसा  कैसे  ज्यादा  से ज्यादा कमाए. जानिये पैसा कमाने  का  तरीका.
 
05:55
महोगनी शब्द का प्रयोग गहरे रंग की कठोर काष्ठ के अनेक प्रकारों के लिए तथा तत्संबंधी पौधों के लिए किया जाता है। यह डोमिनिकन गणराज्य का राष्ट्रीय वृक्ष है, तथा बेलीज़ की राष्ट्रीय मुद्रा पर भी चित्रित है।
Просмотров: 2536 ghazipur funter
Raj mistri how to work with helper
 
02:05
About- this video is related for making new house.
Просмотров: 2207 ghazipur funter
About Deca Durabolin 50Mg Injection
 
05:40
Deca Durabolin 50Mg Injection effectively controls anemia which occurs as a result of kidney disease. the drug can also be prescribed for the treatment of other medical conditions as determined by your health care provider. The drug is known to be an anabolic steroid. When you take this drug, it will help in the growth of certain types of tissue that are present in the body, as well as enhance the capacity of oxygen that the blood can carry. Doctors generally do not recommend the intake of this drug if you are allergic to any substance that is present in it or you suffer from health conditions like prostrate or breast cancer. Pregnant women are also discouraged from taking the drug as it may harm the unborn child. Deca Durabolin 50Mg Injection is mostly administered in the form of an injection by the doctor in his clinic or at the hospital. You can take the injection on your own at home as well. In this case make sure that you administer the drug exactly as directed by your medical adviser. In case Deca Durabolin 50Mg Injection is discolored or you see the presence of some particles in the vial discard it. Deca Durabolin 50Mg Injection along with its syringes as well as needles should be kept away from children and pets. Make sure that you do not use the needles and syringes again. Like all other drugs, Deca Durabolin 50Mg Injection too causes some side effects. While most are minor and disappear in some time, a few are serious and require medical aid. You may experience vomiting, diarrhea, nausea, depression, insomnia, jaundice etc. when you start taking Deca Durabolin 50Mg Injection. Although many patients do not suffer from a serious allergic reaction to the drug, if you do and experience symptoms like problems with breathing, a feeling of tightness in the chest region, itching, and hives, seek medical aid immediately.
Просмотров: 8846 ghazipur funter
Baidyanath Dadurin Lotion hi 10 Ml
 
04:43
Importance: Effective liquid works as Antifungal and Antibacterial useful in skin infections, Eczema, Ringworm, Psoriasis and other skin diseases. Dosage: Wash infected part of body by warm water and then apply dadurin on infected part gently. Indications: Heals ringworm Effective in Skin diseases Anti-fungal Anti-bacterial
Просмотров: 2677 ghazipur funter
Salicylic acid formula in coconut oil
 
03:09
About-the salicylic acid mix in coconut oil and rub in skin when the area in effected in ring worm dad khaj khujali and antifunganal and antibacterial area in skin .face pe nahi lagana hai.thoda sa taklif hoga like jalan but ghabarana nahi hai some time after aram mil jayega is dawa se
Просмотров: 6220 ghazipur funter
जिमीकंद  क्या है ?
 
05:52
सूरन की लाल व सफेद इन दो प्रजातियों में से सफेद प्रजाति का उपयोग सब्जी के रूप में विशेष तौर पर किया जाता हैं | बवासीर में रामबाण औषधि – सूरन के टुकड़ों को पहले उबाल लें और फिर सुखाकर उनका चूर्ण बना लें | यह चूर्ण ३२० ग्राम, चित्रक १६० ग्राम, सौंठ ४० ग्राम, काली मिर्च २० ग्राम एवं गुड १ किला – इन सबको मिलाकर देशी बेर जैसी छोटी-छोटी गोलियाँ बना लें | इसे ‘सूरन वटक’ कहते हैं | प्रतिदिन सुबह-शाम ३ – ३ गोलियाँ खाने से बवासीर में खूब लाभ होता हैं | – सूरन के टुकड़ों को भाप में पका लें और टिल के तेल में सब्जी बनाकर खायें एवं ऊपर से छाछ पियें | इससे सभीप्रकार की बवासीर में लाभ होता हैं | यह प्रयोग ३० दिन तक करें | खूनी बवासीर में सूरन की सब्जी के साथ इमली की पत्तियाँ एवं चावल खाने से लाभ होता हैं | सावधानी – त्वचा-विकार, ह्रदयरोग, रक्तस्त्राव एवं कोढ़ के रोगियों को सूरन का सेवन नही करना चाहिए | अत्यंत कमजोर व्यक्ति के लिए उबाला हुआ सूरन पथ्य होने पर भी इसका ज्यादा मात्रा से निरंतर सेवन हानि करता हैं | सूरन के उपयोग से यदि मुँह आना, कंठदाह या खुजली जैसा हो तो नींबू अथवा इमली का सेवन करें |
Просмотров: 359 ghazipur funter
Letest phone Kechaoda K10
 
06:51
Check Kechaoda K10 specifications and features. We have listed maximum specifications which will guide you to make a smart choice. DisplayScreen Size0.66 inchesDisplay TypeTFTChipsetBrandKechaoda Camera Rear Camera 0.3 MP Video Recording Yes Camera Features Digital Zoom General SpecificationsOperating SystemOther Communication SIM Card Slots Dual SIM SIM Card Type SIM 1: Micro-SIM Bluetooth No 3.5 mm Jack Yes Connectivity2GYes, GSM 1800 / 1900 / 850 / 900 MHz StorageOther Features Battery Battery Capacity 800 mAh Battery Type Li-Po Removable No
Просмотров: 6251 ghazipur funter
गांजा क्या आपने देखा है, नहीं देखा तो देख लो
 
04:06
। व्यक्तियों में गांजा, अस्थाई व्यामोह और अन्य मनोविकारों का भयंकर जोखिम को पैदा कर सकता है। कोलम्बिया यूनिवर्सिटी के एक प्राथमिक अध्ययन में ये बातें सामने आईं हैं। पिछले महीने ही इस स्टडी को जारी किया गया था। ऐसे व्यक्ति जिनमें हल्के या क्षणिक मनोवैज्ञानिक जैसे असामान्य विचार, संदेह इत्यादि लक्षण होते हैं और उनका मनोविकारों का पारिवारिक इतिहास रहा हो। उनमें गांजा और एल्कोहल के इस्तेमाल से इसका जोखिम ज्यादा होता है। पिछले अध्ययनों में सामान्य जनसंख्या में गांजा के इस्तेमाल और मनोविकार के बीच एक संबंध मिला है। लेकिन जिनमें मनोविकारों का खतरा ज्यादा हो, उनमें गांजा का कभी कड़ाई से परीक्षण नहीं किया गया।  भांग या गांजे का धूम्रपान करने वाले कई किशोर और युवाओं में मनोविकार का खतरा बढ़ जाता है। गांजा एक किस्म का पौधा होता है जो कि तकरीबन दो फीट ऊंचे इन पौधों की पत्तियों को सुखाकर उसे बेचा जाता है। और फिर इसे पाइप या फिर कागज में भरकर सिगरेट की तरह पिया जा सकता है। इसके समर्थन में एक दलील यह दी जाती है कि यह सिगरेट से ज्यादा सुरक्षित होती है, इसकी लत नहीं लगती और यह भारत की आध्यात्मिक परंपरा का हिस्सा है। लेकिन गांजे से अक्सर व्यवहार संबंधी गड़बड़ियां पैदा हो जाती हैं और याददाश्त को नुकसान पहुंचने का खतरा रहता है।
Просмотров: 682 ghazipur funter
Zytee rb antiseptic pain-relieving gel
 
04:38
About-composition -choline salicylate and benzalkonium chloride solution.mode of use put adrop or two of the gel from the dropper on top of the index finger and rub gently on the affected area. May be repeated every 3-4 hours as required or as advised by The physician.
Просмотров: 1495 ghazipur funter
पिस्ता को चाट के क्यों  खाना  चाहिए.
 
05:13
A source of vitamin b6 vitamin e
Просмотров: 239 ghazipur funter
Battery water how to change
 
06:16
About-battery water is pure water and pure filtered like rain water and ro water.salty water is harmful for your battery .be careful for your battery. Thank youMany inverter service centers use and suggest RO water for the battery top up, but they keep a check on TDS level, hardness and pH of water used to ensure that battery function is not hampered. But it is always recommended to use distilled water for your inverter batteries.Water from faucets, wells and other natural resources usually has dissolved minerals, salts and impurities. These minerals and salts fill the pores and form a layer on the plates, affecting the normal electro-chemical reaction that generates power in the battery. Presence of such chemical ions may drastically reduce the lifespan of the battery. Filtering tap water merely removes the suspended matter but not the dissolved minerals and non-ionic compounds. Advanced filters like ion-exchange or activated carbon filters remove most of the ionic and larger non-ionic compounds leaving smaller molecules in solution. Distilled water contains no dissolved minerals, salts, organic and in-organic compounds that may harm the battery. Therefore battery manufacturers recommend distilled water for better performance and longer battery life.
Просмотров: 324 ghazipur funter
रोज पिएं 1 गिलास मौसमी का जूस, होंगे ये चमत्कारी फायदे
 
04:35
मौसमी स्वास्थ्यवर्धक होने की वजह से यह मरीजों के लिए एक ग़ुणकारी फल है. इससे न केवल शारीरिक निर्बलता दूर होती है बल्कि कब्ज से भी राहत मिलती है. मौसमी का जूस हमारी सेहत के लिए फायदेमंद होता है. मौसमी का जूस लोग शौक से पीना भी पसंद करते हैं. इसमें विटामिन सी और पोटेशियम जैसे खनिज पाए जाते हैं. मौसमी की तासीर ठंडी होती है. यह शीतलता प्रदान करता है. यह पित्त भी मारता है. मौसमी का जूस स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है. इसके जूस में ढेर सारा मिनरल और पौष्टिक तत्व जैसे विटामिन सी और पोटैशियम आदि पाया जाता है.यह हेल्दी होने के साथ ही उर्जा पहुंचाने वाला भी होता है. मौसमी जूस पीने से निम्नलिखित फायदे होते है- 1. स्कर्वी रोग से बचाव यह रोग आमतौर पर अपने आहार में विटामिन सी की कमी के कारण होता है. स्कर्वी के कारण मसूड़ों में सूजन, बार बार फ्लू होना, जुकाम और होंठ का फटना आदि लक्षण होते हैं. मौसमी रस स्कर्वी के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, क्योंकि यह विटामिन सी युक्त एक उच्च सामग्री है., 2.पाचन शक्ति बढ़ाता है मौसमी रस की मीठी सुगंध से अत्यधिक मात्रा में लार बनती है, जिससे पाचक रस और एसिड का स्राव होता है जो जल्दी से भोजन को पचाने के कार्य को बढ़ाता है. उस के अलावा मौसमी रस यौगिकों में क्रमिक वृत्तों में सिकुड़ने वाली गति के लिए फायदेमंद होता है. कब्ज में लाभदायक मौसमी का रस आंत्र इलाकों में मौजूद विषाक्त पदार्थों को दूर करने के लिए बहुत लाभकारी है. मौसमी के रस में पोटेशियम काफी मात्रा में पाया जाता है जो कि पेट की गड़बड़ी, पेचिश और दस्त में लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है. यह अपने स्वादिष्ट स्वाद के परिणाम के रूप में उल्टी और मतली से बचने में मदद करता है. त्वचा लाभ मौसमी का रस त्वचा के लिए बहुत अच्छा है और यह धब्बे और पिंपल्स को दूर करने में मदद करता है.
Просмотров: 570 ghazipur funter
हयड्रोफोबिआ क्या है कैसे होता है ये रोग, क्या है इसका इलाज?
 
04:48
रैबीज एक संक्रमित वायरस के कारण फैलने वाली बिमारी है जो जिसे हाइड्रोफोबिया और जलांतक की बिमारी भी कहते है , इस बिमारी को रोगी पर अपना नकारात्मक प्रभाव दिखाने के लिए करीब एक से तीन माह का विशेष समय लगता है कुत्तो , बंदरो और अन्य जंगली जीवो में भी इस तरह का वायरस पाया जाता है ,यह कुत्ते की लार में बैक्टीरीया के रुप में मौजूदहोता है जो कि करीब 1 सप्ताह के भीतर ही व्यक्ति के शरीर में पहुंचकर स्नायु तंत्र तक आक्सीजन और खून के प्रवाह को बाधित करता है और रोगी के मस्तिष्क पर आघात करता है|जिससे बचाब के लिए रोगी को 14 एंटी रेबिज के वैक्सीन लगाए जाते है |रैबीज रोग एक बेहद ही जानलेवा और खतरनाक रोग है जिसमें की यदि उचित सावधानी और देखभाल ना की जाएं तो रोगी की मौत भी हो सकती है| क्यो होता है रैबीज– कुत्तों, बिल्ली और अन्य जंगली जानवरों के काटने से यह व्यक्ति के शरीर में फैलने लगता है, इसके अलावा पालतू जानवर के थूंकने और छींकने से भी यह संक्रमित वायरस हवा के संपर्क में आकर व्यक्ति को परेशान करता है| रैबीज के प्रकार– रैबीज रोग दो तरह का होता है जो जिसमें पहला है उग्र रैबीज और दूसरा है पैरालिटिक रैबीज |उग्र रैबीज से पीड़ित लोग अति सक्रिय,उत्साहित और अनियमित व्यवहार प्रदर्शित होते है|वही पैरालिटिक रैबीज में यह धीरे धीरे रोगी के शरीर पर अपना असर दिखाता है,(Kutte Ke Katne Ke Side Effect Or Kutta Katne Se Bimari) जिससे व्यक्ति अंपग होने के साथ ही कोमा में जा सकता है , इसके अंतिम चरण तक पहुंचने पर रोगी का मृत्यु भी हो सकती है| किन जानवरो में पाया जाता है– रैबीज ऐसे जानवरो में मुख्य रुप से पाया जाता है, जो कि जंगली होने के साथ स्तनपायी होते है इसका मतलब यह है कि ऊतकों में दूसरे के संक्रमित अंगो के द्वारा यह विषाणु संचारित होते है| [08/15, 11:27 AM] Sajiya: रैबीज से जुड़ी अहम बातें- गर्मियो में रोग की संभावना अधिक बढ़ जाती है-गर्मियो में कुत्ते सीधे धूप के संर्पक में होने की वजह से पानी का अभाव इनके शरीर में हो जाता है ऐसे जिसकी वजह से इन कुत्तो के मुंह से लार टपकने लगती है , कुत्ते चिड़चिड़े होकर एक सप्ताह के भीतर ही मर जाते है| ‘टीकाकरण- रैबीज एक ऐसा रोग है जिसका सफल उपचार केवल टीकाकरण द्वारा ही किया जा सकता है|आजकल इस रोग के तैजी से फैलने के कारण यह सरकारी ही नहीं प्राईवेट अस्पतालों में भी आसानी से मिल जाता है|प्राईवेट अस्पताल में यह टीका 300 रुपये से शुरु होता है तो सरकारी अस्पतालों में यह 100 रुपये में ही आसानी से उपलब्ध हो जाता है| पानी से डरना- कुत्ते के काटने पर रोगी को पानी से डर लगना , भूख ना लगना और बुखार रहना आदि परेशानियां सताने लगती है ,(Kutte Ke Katne Ke Side Effect Or Kutta Katne Se Bimari) इसके अलावा रोगी को चक्कर आना और उल्टी आने की समस्या भी होने लगती है| ऐसे रोगी जिसे रैबीज का खतरा हो उसे बिल्कुल भी अपनी परछाई मिरर में नहीं देखनी चाहिए | रैबीज के साइड इफेक्टस (Kutte Ke Katne Ke Side Effect Or Kutta Katne Se Bimari) गले और मांसपेशियों में खिचाब पैदा होना पीड़ित का कुत्ते की तरह भौकने लगना बैचेनी , आंशिक पक्षाघात, भ्रम और अनिदा के साथ ही खाने पीने में तकलीफ होना दिमागी असंतुलन होना पानी से डरना बुखार और उल्टी होना मतली और तनाव व्यवहार में बदलाव रैबीज रोग कुत्ते के काटने पर संक्रमित व्यक्ति को होने वाला रोग है जो कि व्यक्ति के स्नायु तंत्र तक अपनी पहुंच करीब 1 से 3 हफ्तों में ही बना लेता है जिसके बाद रोगी को पानी से डरना, भूख ना लगना , बुखार रहना और उल्टी होना जैसी समस्याएं होने लगती है|ऐसे में रोगी की 4 हफ्तों के भीतर ही मृत्यु हो जाती है| (Kutte Ke Katne Ke Side Effect Or Kutta Katne Se Bimari) आज हमने आपको कुत्ते के काटने से होने वाली बिमारियों के बारे में बताया,जिससे आप इस बिमारी के प्रभाव में आने से खुद को बचा स��
Просмотров: 349 ghazipur funter
Axe Brand medicine oil
 
05:41
About- these oil is use for head ache ,cold and injuries and honey bee bite.
Просмотров: 1075 ghazipur funter
गूलर और औषधीय गुण Gular Ke Gun
 
04:28
गूलर एक प्रकार का फल है जिसका आकार गोल होता है | ये स्वस्थ के लिए बहुत ही लाभकारी है | गूलर का उपयोग घरेलू उपचार में विभिन्न प्रकार के रोगों को ठीक करने में होता है | आइये जानते हैं घरेलू इलाज में गूलर का प्रयोग कैसे करें- 1. मधुमेह के उपचार में Gular Se Madhumeh Ka Upchar एक चम्मच गुलर के फलों के चूर्ण को एक कप पानी के साथ दोनों समय के भोजन के बाद नियमित रूप से सेवन करने से पेशाब में चीनी आना बंद हो जाती है और रक्त की शकरा भी नियंत्रित होती हैं | साथ ही कच्चे फलों की सब्जी नियमित रूप से खाते रहना अधिक गुणकारी है | बिच-बिच में चीनी का टेस्ट अवश्य कराएं | नियंत्रण में आने पर इसे खाना बंद कर दे | 2. शिशु का दुबलापन दूर करने में Gular Se Dublapan Dur Karne Me बच्चों को उम्र के अनुसार कुछ बूंदों से लेकर 8-10 बूंदों तक गुलर का दूध माँ या गाय-भैस के दूध के साथ मिलाकर नियमित रूप से कुछ माह तक एक बार पिलाते रहने से वह शरीर से हृष्ट-पुष्ट और सुडौल हो जाएगा | 3. दांत के रोग के इलाज में Gular Se Daant Rogo Ka Upchar गुलर की छाल के काढ़े से गरारे करते रहने से दांत और मसूड़ों के समस्त रोग दूर होकर मजबूत होते हैं | 4. रक्त प्रदर का इलाज Rakt Pradar Ka Upchar Gular Ke Dwara फल का एक चम्मच चूर्ण संभाग मिसरी मिलाकर सुबह-शाम नियमित रूप से सेवन करने से कुछ ही हप्तों में न केवल रक्त प्रदर में लाभ होगा, बल्कि मासिक स्त्राव में अधिक रक्त जाने की तकलीफ भी दूर होगी | 5. रक्तस्त्राव को ठीक करने के लिए  नाक से, मुह से, योनी से, गुदा से होने वाले रक्तस्त्राव में इसके दूध की 15 बूंदे एक चम्मच पानी के साथ दिन में 3 बार सेवन करना चाहिए | 6. अधिक पेशाब का उपचार Adhik Peshab Ke Upchar Me गुलर के कच्चे फलों का एक चम्मच चूर्ण तथा 2-2 चम्मच शहद और दूध के साथ सुबह-शाम सेवन करने से कष्ट दूर होता है | 7. धातु दुर्बलता ठीक करने के लिए Dhatu Ki Durbalta Door Karne Ke Liye एक बताशे में 10 बूंद गुलर का दूध लेकर सुबह-शाम सेवन करने और एक चम्मच की मात्रा में फलों का चूर्��
Просмотров: 359 ghazipur funter
सेट वेट जेल का उपयोग  कैसे  करें
 
03:43
Styling for hair and beard
Просмотров: 225 ghazipur funter
mycoderm को कैसे उपयोग करे.
 
02:29
About-to be used as a dusting powder over affected parts of body or as directed by the physician. Contains antibacterial,antifungal agents. It prevents and treats fungal infection such as ringworm,dhobie itch and athlete's foot, and prevents fungal infections due to excessive perspiration
Просмотров: 1141 ghazipur funter
नंपुषकता स्तन  उभार तथा सफेद दाग एवं थनैलि रोग कि एक औषधि
 
07:02
प्रकृति निर्मित इस दुनिया में कई ऐसी अद्भुत चीजें देखनें को मिलती हैं। प्रकृति ने इस पृथ्वी पर जल, जमीन और जंगल दिए हैं। सभी का अपना-अपना महत्व है। जहाँ जमीन पर रहनें का काम होता है, वहीँ जल से व्यक्ति अपनी प्यास बुझाता है। जंगलों का भी कम महत्व नहीं है। जंगलों की सहायता से ही शुद्ध वायु प्राप्त होती है, जो जीवन जीनें के लिए सबसे ज्यादा आवश्यक होता है। आज के समय में बढ़ते प्रदूषण की वजह से लगातार जंगल कम होते जा रहे हैं। जंगलों में तरह-तरह के पेड़-पौधे पाए जाते हैं। इनमें से कुछ पेड़-पौधे अपने औषधीय गुणों की वजह से जानें जाते हैं। आज हम आपको इसी क्रम में शीशम के फायदे (शीशम का पेड़) के बारे में बतानें जा रहे हैं। शीशम की लड़की होती है काफी मजबूत और महँगी शीशम का पेड़ आपको लगभग हर जगह देखनें को मिल जायेगा। यह शीशम का पेड़ देखनें में भले ही साधारण दिखाई दे, लेकिन इसके अन्दर कमाल के औषधीय गुण होते हैं। शीशम के पत्तों से एक चिपचिपा पदार्थ निकलता है, जिसका इस्तेमाल कई रोगों का इलाज करनें के लिए किया जाता है। शीशम के पत्ते के फायदे जैसे दर्दनाशक, अवसादरोधी, सड़न रोकनें वाला, कामोत्तेजना बढ़ानें वाला, जीवाणु रोधक और कीटनाशक के रूप में किया जाता है। इसके सबसे ज्यादा पेड़ ब्राजील में पाए जाते हैं। ब्राजील में इसके सदाबहार वन पाए जाते हैं। इसकी लकड़ी काफी महँगी और मजबूत होती है, जिसका इस्तेमाल घर बनानें में किया जाता है। शीशम का पेड़ और उसके पत्ते काफी फायदेमंद होते है. शीशम के पत्ते के फायदे अवसाद दूर करनें में सहायक शीशम के तेल (शीशम का पेड़) का सेवन करनें से अवसाद से ग्रस्त रोगियों को काफी राहत मिलती है। इसके तेल के बारे में कहा जाता है कि उसका सेवन करनें से निराशा और अवसाद से मुक्ति मिलती है। इससे व्यक्ति जीवन में सकारत्मक उर्जा के साथ आगे बढ़ता है। लोग �महिलाओं के स्तन उभार में तथा पुरुष के नपुषकता रोग में और सफेद दाग में उपयोगी होती है शीशम कि पत्ती ।
Просмотров: 1176 ghazipur funter
टाइफाइड ट्रीटमेंट. क्यों होता  हैटाइफाइड ? क्या है इसका इलाज.
 
06:06
टाइफायड साल्मोनेला बैक्टीरिया से फैलने वाली खतरनाक बीमारी है। इसे मियादी बुखार भी कहते हैं। टाइफायड  बुखार पाचन तंत्र और ब्लटस्ट्रीम में बैक्टीरिया के इंफेक्शन की वजह से होता है। गंदे पानी, संक्रमित जूस या पेय के साथ साल्मोनेला बैक्टीरिया हमारे शरीर के अंदर प्रवेश कर जाता है। टायफायड की संभावना किसी संक्रमित व्यक्ति के जूठे खाद्य-पदार्थ के खाने-पीने से भी हो सकती है। वहीं दूषित खाद्य पदार्थ के सेवन से भी ये संक्रमण हो जाता है। पाचन तंत्र में पहुंचकर इन बैक्टीरिया की संख्या बढ़ जाती है। शरीर के अंदर ही ये बैक्टीर‌िया एक अंग से दूसरे अंग में पहुंचते हैं। टाइफायड के इलाज में जरा भी लापरवाही नहीं बरतनी चाह‌िए। दवाओं का कोर्स पूरा न किया जाए तो इसके वापस आने की भी संभावना रहती है। क्या है टाइफायड  टाइफायड के बैक्टीरिया इंसानों के शरीर में ही पाया जाता है। इससे संक्रमित लोगों के मल से सप्लाई का पानी दूषित हो जाता है। ये पानी खाद्य पदार्थों में भी पहुंच सकता है। बैक्टीरिया पानी और सूखे मल में हफ्तों तक ‌जिंदा रहता है। इस तरह ये दूषित पानी और खाद्य पदार्थों के जरिए शरीर में पहुंचकर संक्रमण पहुंचाता है। संक्रमण बहुत अधिक हो जाने पर 3 से 5 फीसदी लोग इस बीमारी के कैरियर हो जाते हैं। जहां कुछ लोगों को हल्की से परेशानी होती है, जिसके लक्षण पहचान में भी नहीं आते वहीं कैरियर लंबे समय के लिए इस बीमारी से ग्रसित रहते हैं। उनमें भी ये लक्षण दिखाई नहीं देते लेकिन कई सालों तक इनसे टाइफायड का संक्रमण हो सकता है। लक्षण संक्रमित पानी या खाना खाने के बाद साल्मोनेला छोटी आंत के जरिए ब्लड स्ट्रीम में मिल जाता है। लिवर, स्प्लीन और बोनमैरो की श्वेत रुधिर क‌णिकाओं के जरिए इनकी संख्या बढ़ती रहती है और ये रक्त धारा में फिर से पहुंच जाते हैं। बुखार टाइफायड का प्रमुख लक्षण है। इस��
Просмотров: 185 ghazipur funter
धातु रोग में कारगर दवा
 
04:21
धातु रोग के मरीजों के लिए भी भिंडी किसी वरदान से कम नहीं है। इसके लिए गाय के दूध का दही जमाकर उसका मट्ठा बना लें। सवेरे भिंडी के दो या तीन फूल पीसकर इस ताजा मट्ठे में मिलाकर सेवन करने से धातु का जाना बंद हो जाता है। और रोगी में नई शक्ति का संचरण होता है। धातु विकार में भिंडी की जड़ को दूध में औंटा कर छानकर उसमें घी और खांड मिलाकर पीने से भी लाभ होता है। भिंडी के गुणों को देखते हुए इसके नियमित सेवन का निश्चय करें। भिंडी खरीदते समय यह अवश्य ध्यान दें कि वह सड़ी-गली, कीड़ों वाली अथवा कड़ी न हो। मुलायम, ताजा व पतली भिंडी, जिसमें कीड़े न लगे हों, आपको वांछित लाभ पहुंचाएगी।
Просмотров: 229 ghazipur funter
How to modified latest hair style
 
05:03
Curl machine and hair wax ke through aap latest hair style De skate hai
Просмотров: 101 ghazipur funter
Hexigel antiseptic mouth gel,uses,side effect,effect,precution,how to use.
 
04:57
Antiseptic Mouth Gel Ensures Rapid Healing of Ulcers Composition: Chlorhexidine gluconate solution I.P. equivalent to chlorhexidine gluconate 1.0% w/w in pleasantly flavoured base. Mode of action: Hexigel kills local pathogenic irritants and helps ulcers to heal faster. In cases of oral hygiene, plaque inhibition and localized gingivitis (gingivitis confined to a specific area), Hexigel is to be brushed on the teeth once or twice daily. Indications: Gingivitis, oral candidiasis, aphthous and other oral ulcers, maintenance of oral hygiene. Directions: For oral hygiene, plaque inhibition and gingivitis: Brush your teeth with the gel once or twice a day.For management of aphthous and other oral ulcers: Apply the gel to affected areas once or twice a day. Warning: Brown staining may be reported with extensive use in some cases. It can be removed by brushing or polishing. Presentation: Lamitube of 15g (0.52 oz)
Просмотров: 195 ghazipur funter
करोंदा का  एक  राज  जो  कोई भी  नहीं जानता. जानिए आप सबसे पहले.
 
03:13
About-karondha fruit and pickel is very useful for our digestive system
Просмотров: 59 ghazipur funter
NSG COMMANDO India copy video
 
02:55
Song Title: Har Karam Apna Karenge Aye Watan Tere Liye Movie: Karma (1986) Singers: Mohammad Aziz, Kavita Krishnamurthy Lyrics: Anand Bakshi Music: Laxmikant-Pyarelal Music label: Saregama India Limited
Просмотров: 162 ghazipur funter
लकड़ी को डिज़ाइन देने वाली मशीन
 
02:50
काष्ठ या लकड़ी एक कार्बनिक पदार्थ है, जिसका उत्पादन वृक्षों(और अन्य काष्ठजन्य पादपों) के तने में परवर्धी जाइलमके रूप में होता है। एक जीवित वृक्ष में यह पत्तियों और अन्य बढ़ते ऊतकों तक पोषक तत्वों और जल की आपूर्ति करती है, साथ ही यह वृक्ष को सहारा देता है ताकि वृक्ष खुद खड़ा रह कर यथासंभव ऊँचाई और आकार ग्रहण कर सके। लकड़ी उन सभी वानस्पतिक सामग्रियों को भी कहा जाता है, जिनके गुण काष्ठ के समान होते हैं, साथ ही इससे तैयार की जाने वाली सामग्रियाँ जैसे कि तंतु और पतले टुकड़े भी काष्ठ ही कहलाते हैं। सभ्यता के आरंभ से ही मानव लकड़ी का उपयोग कई प्रयोजनों जैसे कि ईंधन (जलावन) और निर्माण सामग्री के तौर पर कर रहा है। निर्माण सामग्री के रूप में इसका उपयोग मुख्य रूप भवन, औजार, हथियार, फर्नीचर, पैकेजिंग, कलाकृतियां और कागज आदि बनाने में किया जाता है। लकड़ी का काल निर्धारण कार्बन डेटिंग और कुछ प्रजातियों में वृक्षवलय कालक्रम के द्वारा किया जाता है। वृक्ष वलयों की चौड़ाई में साल दर साल होने वाले परिवर्तन और समस्थानिक प्रचुरता उस समय प्रचलित जलवायु का सुराग देते हैं।[1]
Просмотров: 79 ghazipur funter
देखिये पहले ही बारीश मे घर कैसे धराशाही  हो गया.
 
01:20
About-the famous majdoor pappu tirchhi shadi ke Khushi me majdoori
Просмотров: 74 ghazipur funter
चना भूनने का तरिका  और उसके  फायदा
 
02:14
आपने भुने हुए चने तो खाए ही होंगे. अगर आप भुने हुए चनों को केवल स्वाद के लिए कभी-कभी खाते हैं तो इन्हें रोजाना खाना शुरू कर दीजिए. भुने हुए चने खाने से शरीर को जबरदस्त स्वास्थ्य लाभ होता है. हो सकता है आपको भी चने खाने से होने वाले फायदों के बारे में जानकारी न हो. ध्यान रखें कि बाजार में भुने हुए चने दो तरह के होते हैं छिलके वाले और बिना छिलके वाले. आपको बिना छिलके वाले चने ही खाने हैं, चने के छिलके भी सेहत के लिए अच्छे होते हैं. भुने हुए चने को यदि सही तरीके से चबा चबाकर खाया जाएं तो यह मर्दाना ताकत में बढ़ोतरी होती है. भुने हुए चने को गरीबों का बादाम भी कहा जाता है. इसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, नमी, कैल्शियम, आयरन और विटामिन भरपूर मात्रा में पाया जाता है. भुने हुए चने खाने के फायदों के बारे में पढ़कर शायद आपके मन में भी यह सवाल उठ रहा हो कि एक स्वस्थ व्यक्ति को प्रतिदिन कितने चने खाने चाहिए. इस बारे में वसंत कुंज स्थित इंडियन स्पाइनल इंजरी सेंटर की सीनियर डायटीशियन डॉ. हिमांशी शर्मा बताती हैं कि एक स्वस्थ व्यक्ति को रोजाना 50 से 60 ग्राम चनों का सेवन करना चाहिए. यह उसकी सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद रहता है. डाइट में शामिल करें ये सब्जी, हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में मिलेगा आराम  बढ़ती है प्रतिरोधक क्षमता रोजाना नाश्ते में या दोपहर के खाने से पहले 50 ग्राम भुने हुए चने यदि आप खाते हैं तो इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने से आप बहुत से बीमारियों से तो बचते ही हैं, साथ ही इससे आपको मौसम बदलने पर अक्सर होने वाली शारीरिक परेशानियां भी नहीं होती. मोटापा घटाए अगर आप या आपके परिवार में कोई मोटापे से ग्रस्त हैं तो भुने हुए चने खाना उनके लिए बहुत ही फायदेमंद रहेगा. रोजाना भुने हुए चने खाने से मोटापे की समस्या में राहत मिलती है. इसका स�
Просмотров: 55 ghazipur funter
Bped bharti radd,
 
07:39
Up ko bahut bada jhataka ,lakho bped degree mayush,
Просмотров: 45 ghazipur funter
Lava prime x
 
04:22
Amazing mobile
Просмотров: 405 ghazipur funter
सल्फर का उपयोग  क्यों  खेतों  मे  करे , कौन  सा सल्फर अच्छा होता है  फसल  के लिए?
 
06:07
सभी फसलों मे लाभदायक और अच्छी पैदवार के लिए
Просмотров: 216 ghazipur funter
ArthroSyp with Guggul SYRUP, How to use, effect
 
07:28
Indication-very effective in-sandhigat vata,arthritis,sciatica,limping,tinnitus,otalgia etc.
Просмотров: 25 ghazipur funter
T-bact Mupirocin ointment i.p.5 g
 
05:40
Mupirocin is an antibiotic. Mupirocin topical prevents bacteria from growing on your skin. Mupirocin topical is used to treat infections of the skin such as impetigo. Mupirocin topical may also be used for purposes other than those listed in this medication guide.
Просмотров: 2741 ghazipur funter
कान मे दर्द कान का बहना कीड़े के घुसने मे  उपयोग आने  वाले ौसधि  हुरहुर  रागनी की पत्ते और फूल
 
04:46
रागिनी का पौधा मानव जाति के लिए रामबाण कि तरह है।रागिनी के पत्ती को कान के होने वाले रोगों मे अपयोग किया जाता है।जैसे कान के दर्द कान के बहने पे और संक्रमण आदि मे।
Просмотров: 53 ghazipur funter
पुदीना मे  छुपे रह्स्य
 
04:31
 1. अगर आपके मुंह से बदबू आती है तो पुदीने की कुद पत्त‍ियों को चबा लें. निय‍म से इसके पानी से कुल्ल करने पर भी बदबू चली जाएगी. 2. पुदीना त्वचा से जुड़ी कई बीमारियों में भी एक अचूक उपचार है. 3. गर्मी में लू से बचने के लिए भी पुदीने का इस्तेमाल किया जाता है. इसके रस को पीकर बाहर निकलने से धूप लगने का डर भी कम रहता है. 4. हैजा होने पर भी पुदीने का इस्तेमाल किया जाता है. हैजा होने पर पुदीना, प्याज का रस, नींबू का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से फायदा होगा. 5. उल्टी होने पर आधा कप पुदीना का रस पीने से उल्टी आना बंद हो जाएगी. 6. पेट दर्द होने पर भी पुदीने को जीरा, काली मिर्च और हींग के साथ मिलाकर खाने से आराम होता है. 7. पुदीने की ताजी पत्त‍ियों को पीसकर चेहरे पर लगाने से चेहरे को ठंडक मिलती है
Просмотров: 40 ghazipur funter
अम्बार, या आमढा क्यों होते है उपयोगी?
 
05:03
Ambar tree rescue and fruit harvesting
Просмотров: 133 ghazipur funter
बैंगन होने वाले बच्चे को बनाये सुन्दर
 
04:27
बैंगन में फोलिक एसिड पाया जाता है जो गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है। फोलिक एसिड सीधे न्यूरल ट्यूब के दोष से शिशुओं की सुरक्षा करता है जो कई तरह से हो सकता है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को अपने आहार में फोलिक एसिड का का सेवन करने की सलाह दी जाती है।
Просмотров: 108 ghazipur funter
DENIM AXE LEATHER SAVING CREAM with Moisturisers
 
05:16
A product by Hindustan unilever
Просмотров: 86 ghazipur funter
Vigore 100 benefit, review in hindi,how to use, precaution
 
05:52
Vigore की खुराक और इस्तेमाल करने का तरीका - Vigore Dosage & How to Take in Hindi Sildenafil लिंग की रक्त वाहिकाओं (ब्लड वेसल्स) की मांसपेशियों को आराम देकर लिंग का रक्त प्रवाह बढ़ता हैं। यह इरेक्शन में केवल तभी मदद करता है जब व्यक्ति यौन उत्तेजित हो। यह अधिकतर मामलों में दी जाने वाली Vigore की खुराक है। कृपया याद रखें कि हर रोगी और उनका मामला अलग हो सकता है। इसलिए रोग, दवाई देने के तरीके, रोगी की आयु, रोगी का चिकित्सा इतिहास और अन्य कारकों के आधार पर Vigore की खुराक अलग हो सकती है।
Просмотров: 59 ghazipur funter
Advantage of bamboo tree
 
03:23
बांस का पेड़ भारत में सभी जगहों पर पाया जाता है। यह कोंकण (महाराष्ट्र) में अधिक मात्रा में पाया जाता है। यह 25-30 मीटर तक ऊंचा होता है। इसके पत्ते लम्बे होते हैं। इसका तना बहुत मजबूत होता है। इसका अन्दाजा इस बात से लगाया जा सकता कि अचानक तोप से वार करने पर भी इस पर कोई असर नहीं होता है। जब बांस 60 वर्ष का हो जाता है तो इसमें बीज आने लगते हैं। प्रत्येक बांस में थोड़ी-थोड़ी दूर पर बीजों के झुण्ड लगते हैं। बीजों के पक जाने पर बांस सूखने लगता है। एक बांस के सूखने से कई बांस सूख जाते हैं। बीस पच्चीस वर्ष बाद नये बीज आ जाते हैं। इसके बीज गेहूं के बीज के समान होते हैं। गरीब और आदिवासी लोग उसकी रोटी बनाकर खाते हैं। बांस से टोकरी, चटाई, सूप, पंखे आदि अनेक वस्तुएं बनाई जाती हैं। इसमें कपूर की तरह का एक पदार्थ निकलता है जिसे वंशलोचन कहा जाता है। गुण (Property) बांस की जड़ें शरीर को स्वच्छ और शुद्ध बनाती हैं। इसकी जड़ों को जलाकर बारीक पीसकर चमेली के तेल में मिलाकर यदि हम गंजे सिर में लगाते हैं तो इससे गंजे सिर में आराम मिलता है। शहद के साथ बांस के पत्तों का रस मिलाकर लेने से खांसी खत्म हो जाती है। पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से स्त्रियों में रुका हुआ मासिक-धर्म पुन: शुरू हो जाता है। इसकी जड़ों का अचार बनाकर खाने से वात, कफ और खून के विकार दूर होते हैं तथा पित्त, सफेद दाग, सूजन और शरीर के जख्मों को भर जाते हैं। बांस के अंकुर रूखे भारी दस्त तथा कफ को बढ़ाते हैं तथा ये वात और पित्त को भी पैदा करते हैं। बांस के चावल कषैले मीठे और स्वादिष्ट होते हैं। ये शरीर की धातु को गाढ़ा और पुष्ट करते हैं। शरीर को मजबूत और शक्तिशाली बनाता है। यह कफ, पित्त को खत्म करता है तथा बहुमूत्रता को रोकने के काम आता है। हानिकारक प्रभाव (Harmful effects) बांस फेफड़ों के लिए हानिकारक होता है। विभिन्न रोगों में उपचार (Treatment of various diseases) मूत्राघात (पेशाब के �
Просмотров: 83 ghazipur funter
How to use Unienzyme tablets.
 
06:35
Unienzyme गोली में फंगल Diastase, चारकोल, और Papain. का एक अमीर सूत्रीकरण शामिल हैं ए फ़ंगल डायस्टेस प्राकृतिक प्रो-पाचन एंजाइम है, जो कार्बोहाइड्रेट के विघटन में प्रयोग किया जाता है। यह भोजन के मलसाबोधन को भी रोकता है Papain, pappaya से निकाले, एक एंजाइम है कि पेट में प्रोटीन टूटता है और पाचन में मदद करता है। चारकोल बड़े शोषक क्षमता, जिससे पेट में अवांछित पदार्थों और विषाक्त पदार्थों के साथ बाँध कर और उन्हें शरीर से बाहर धकेलने में सक्षम बनाते हैं ए Unienzyme गोली एक आहार अनुपूरक है जो उचित तरीके से पाचन तंत्र को एक संतुलित तरीके से बढ़ाकर उचित पाचन को बढ़ावा देता है। तो, अपच, ब्लोटिंग, गैस या किसी भी पेट की परेशानी के मामले में आप भोजन के बाद 1 गोलियाँ अनिएनजियम ले सकते हैं। ए चिकित्सा पर्यवेक्षण के तहत उपयोग करें
Просмотров: 111 ghazipur funter
बेर के शक्तिशाली तत्व
 
05:28
Jujube Fruits for Sleep in Hindi अनिद्रा या बेचैनी से पीड़ित लोगों के लिए, बेर के फल के बीज का अर्क एक अच्छा उपाय हो सकता है। इस फायदेमंद फल में मौजूद कार्बनिक यौगिकों के सुखदायक गुण शरीर और मन को शांत कर सकते हैं। इसलिए यदि आपको रात में नींद आने में कोई समस्या उत्पन्न होती है तो यह छोटा सा फल आपकी मदद कर सकता है। (और पढ़ें - नींद ना आने के उपाय) बेर के गुण बनाएं रक्त परिसंचरण को बेहतर - Jujube for Blood Circulation in Hindi बेर लोहा और फास्फोरस दोनों का एक समृद्ध स्रोत है, जो लाल रक्त कोशिकाओं में पाए जाने वाले महत्वपूर्ण तत्व होते हैं। यदि आप अपने खून में आयरन की कमी या एनीमिया से पीड़ित हैं, तो आपको मांसपेशियों की कमजोरी, अपच और संज्ञानात्मक भ्रम जैसे लक्षणों का अनुभव हो सकता है। आप बेर की मदद अपने लोहे और फॉस्फोरस सेवन को बढ़ाकर, रक्त के प्रवाह को बढ़ा सकते हैं। इस प्रकार आप अंग प्रणालियों को अधिक प्रभावी ढंग से ऑक्सीजन भेज सकते हैं जिससे आपको ऊर्जा को बढ़ाने में मदद मिलेगी। (और पढ़ें - एनीमिया में क्या खाना चाहिए?) बेर खाने के फायदे हड्डियों के लिए - Ber ke Fayde for Bones in Hindi कैल्शियम, फॉस्फोरस और लोहे जैसे खनिजों का सेवन बढ़ाकर, आप अपनी हड्डियों को लचीला और मजबूत बना सकते हैं। ये सभी खनिज बेर में पाए जाते हैं। जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ने लगती है तो हम ऑस्टियोपोरोसिस और अन्य हड्डियों से जुड़ी समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं, इसलिए अपने आहार में बेरी फल को जोड़कर, आप इन इस समस्या को धीमा कर सकते हैं। (और पढ़ें - हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जूस रेसिपी) बेर के लाभ करें वजन कम करने में मदद - Jujube for Weight Loss in Hindi वजन कम करने का प्रयास करने वाले लोगों के लिए फलों और सब्जियों का सेवन करना एक आम सुझाव होता है। बेर और एक अन्य भोजन है जिसे आप अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। कम कैलोरी और उच्च प्रोटीन और फाइबर स्तर के साथ बेर, आपकी पोषण संबंधी जरूर�
Просмотров: 85 ghazipur funter
पान को कैसे स्वादिस्ट बनाएं
 
02:29
About-the paan is a leaf but combined into chuna surti supari and kattha is harmful for mouth .so aap khate ho to ise kam kar de mera channel sirf manoranjan karta hai.
Просмотров: 82 ghazipur funter
किसानो को खेती क्यों रुला देती है. देखिये इस पत्थर जैसे मिटटी को  जिसमे लोहे  की  आवाज आती है.
 
04:59
Dhaan ka transplantation RELATED SEARCHES examples of field crops types of field crops field crops wikipedia importance of field crops field crops production types of crop production crop plants and their uses field crops
Просмотров: 64 ghazipur funter
KONTUM Oral Rinse 120 ml (mouth wash) how to use
 
06:19
HOW TO USE: This medication is a mouth rinse and/or gargle. It is not to be swallowed. Use this as directed. This may be diluted with equal amounts of water prior to rinsing or gargling if it causes irritation or burning. For mouth sores, place the prescribed amount in the mouth and try to keep the liquid in contact with the sores for at least 30 seconds before spitting it out. For a sore throat, gargle with the prescribed amount for at least 30 seconds before spitting it out.
Просмотров: 65 ghazipur funter
हावेल्स के  अनोखे एक्सटेंशन बोर्ड
 
06:13
About-this board is very glamour and charming.there are many use like temperory board.original copper wire lasses and suitable pluck.
Просмотров: 128 ghazipur funter
लहसुन का उपयोग आपको मर्द  बना देगा.
 
03:31
About-garlic is most useful thing whole body problems trouble solution.
Просмотров: 56 ghazipur funter